Monday, August 10, 2020
Home खबरें बिहार की प्रिंसिपल ने बदली सरकारी स्कूल की तस्वीर, क्लास रुम को दी ट्रेन...

प्रिंसिपल ने बदली सरकारी स्कूल की तस्वीर, क्लास रुम को दी ट्रेन के डब्बे की शक्ल

जिले के सदर प्रखंड स्थित सिकंदरा गांव के उत्क्रमित मध्य विद्यालय के प्रभारी प्रिंसिपल विनय प्रभाकर ने बदलाव की एक ऐसी तस्वीर पेश की है जो अब नजीर बन गई है. विनय ने अपने नए आइडियाज के जरिए अपने स्कूल की सूरत बदल डाली है. चार महीने पहले स्कूल से जुड़े प्रिंसिपल ने स्कूल में ऐसा बदलाव किया है कि अब बच्चे खेल-खेल में पढ़ाई करते हैं.

ट्रेन के डब्बे की शक्ल में क्लास रुम
स्कूल की बिल्डिंग को शैक्षणिक जंक्शन के नाम से रंग दिया गया है. ट्रेन के डब्बे की शक्ल में क्लास रुम को पेंट किया गया है. बच्चे रोज सवेरे अपने स्कूल बैग लेकर आते हैं और शैक्षणिक जंक्शन पर लगे ट्रेन के डब्बे में यानी अपने क्लास रूम में सवार होकर सौर मंडल की दुनिया में सैर करते हुए अपनी पढ़ाई करते हैं.

बच्चों की उपस्थिति में इजाफा
क्लासरूम के अंदर बच्चों के ज्ञान की क्षमता बढ़ाने के लिए चारों तरफ भूगोल, जीवविज्ञान, गणित, जेनरल नॉलेज, नैतिक शिक्षा से जुड़ी तस्वीर बनावाए गए हैं, जो बच्चों को काफी अच्छा लग रहा है. अब स्कूल से भागने के बजाए बच्चे ज्यादा देर तक रहना पसंद कर रहे हैं. स्कूल में वातावरण बदलते ही बच्चों की उपस्थिति में भी इजाफा हुआ है. पहले बमुश्किल 50-60 बच्चे ही आते थे, अब 225 में 100-125 बच्चे आ रहे हैं.

क्या कहते हैं बच्चे
बच्चों का कहना है कि अभी स्कूल में मन लग रहा है. सर ने रेलगाड़ी बनाई, सारी दीवारों पर बेहद सुंदर डिजाइन बनाए हैं. स्कूल पहले से बहुत बेहतर हो गया है. पहले स्कूल आने का मन ही नहीं करता था अब नए टीचर आ गए हैं तो स्कूल बहुत अच्छा हो गया हैं. अब स्कूल से जाने का मन ही नहीं करता है.

क्या कहतीं हैं टीचर्स
स्कूल की टीचर्स का भी कहना है कि जब से नवीन आए हैं तब से सारी एक्टिविटी करवाने में मन लगता है. इसके पहले भी पढ़ाई होती थी, लेकिन अब बहुत अच्छा लगता है. सर जब से स्कूल आए हैं स्कूल का एक-एक कोना साफ और सुंदर हो गया है. बच्चे पहले से ज्यादा स्कूल में इंटरेस्ट ले रहे हैं.

‘शिक्षा के सर्वांगीण विकास की कोशिश’
विद्यालय के प्रभारी प्रिंसिपल विनय प्रभाकार कहते है कि बच्चों में शिक्षा के सर्वांगीण विकास के लिए कोशिश कर रहे हैं. पिछले 4 महीने से यहां कार्यरत हूं इतने ही दिनों में काफी कुछ बदल दिया है. बच्चों को खेल खेल में सीखने का मौका मिल रहा है. स्कूल में मनोरंजनक माहौल बनाने के लिए रेलगाड़ी की शक्ल में पेंट करवाए. जितने भी क्लासरूम है उसमें विषय आधारित चित्र तैयार कराए. हम चाहते हैं कि बच्चों के चरित्र का निर्माण हो, बौद्धिक क्षमता का विकास हो और वे आगे चलकर अच्छा करे.

Source: Etv Bharat Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पटना में 7 दिनों के लिए लॉकडाउन, डीएम ने किया एलान

पटना: राजधानी पटना में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए फिर से लॉकडाउन लगाने का बड़ा फैसला लिया गया है. भागलपुर में 5...

सावन में पहली बार टूटी कांवर यात्रा की परंपरा, दो लाख भक्तों ने ऑनलाइन किए बाबा बैद्यनाथ के दर्शन

पटना: विश्व प्रसिद्ध राजकीय श्रावणी मेले का इस बार आयोजन नहीं हुआ है, लेकिन बाबा बैद्यनाथ के भक्तों ने सावन की पहली सोमवारी पर...

बिहार के वीरों ने 18 चीनी सैनिकों का गर्दन तोड़ चेहरे को पत्थरों से कुचल दिया, जानिये उस रात बिहार रेजीमेंट के जवानों की...

पटना: भारत-चीन सीमा पर कयामत की उस रात 16 बिहार रेजीमेंट के जवानों ने बहादुरी की जो कहानी रच दी, वो दुनिया भर में सैन्य...

सीएम नीतीश का बड़ा एलान, बिहार के शहीद जवानों के परिजनों को दिए जायेंगे 36-36 लाख रुपये और एक आश्रित को नौकरी

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बड़ा एलान किया है. भारत-चीन सीमा पर स्थित गलवान घाटी में शहीद जवानों के परिजनों को मुख्यमंत्री...

Recent Comments